सोमवार, 4 अक्तूबर 2010

कुछ खट्टी ----------
          १.
तुमने करीने से
लगाये पैबंद
फिर भी
पोशिदा नहीं हुआ
'सच'
वह तो नंगा का नंगा
ही रहा !
         २
लोग तुम्हें
कतरा- कतरा
खरीदते रहे /
तुम महंगे सामान से
घर भरते रहे /
दिल तो फिर भी
खाली का खाली ही रहा !

कुछ मीठी ----------

कुछ इस तरह 
'आलम'
नींद का देखा यूँ
सुनकर लोरी माँ की /
न याद मज्जिद रही
न याद मंदिर ही रहा !
                               

2 टिप्‍पणियां:

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

जबरदस्त। खासतौर पर ' कुछ् मीठी..' , यह क्या एकदम से इतना आत्मतल लेखन। सुधीरजी, क्या कहूं..जब कोई रचना मुझे बेहद बेहद अच्छी लगती है तो मेरे तमाम शब्द बन्ध जाते है। फिर उस पर कुछ लिखना वाकई कठिन है।

संजय भास्कर ने कहा…

आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी......आपको फॉलो कर रहा हूँ |

कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
http://sanjaybhaskar.blogspot.com